रचना पर कुल आगंतुक :180

‘हिन्दी साहित्य भारती’ की अंतर्राष्ट्रीय समिति घोषित,डॉ. रवीन्द्र शुक्ल बने अंत. अध्यक्ष

दिल्ली।

हिन्दी साहित्य भारती के केन्द्रीय अध्यक्ष डॉ. रवीन्द्र शुक्ल ने संस्था का विश्वव्यापी विस्तार करते हुए अंतर्राष्ट्रीय समिति की घोषणा की है। इस समिति में विश्व के लगभग 20 देशों से जुड़े विभिन्न साहित्य मनीषीगण एवं साहित्यिक अभिरुचि के समाजसेवियों एवं उद्योगपतियों को भी स्थान दिया गया है। गठित समिति में अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी डॉ.रवीन्द्र शुक्ल को मिली है।
भारती के केन्द्रीय महामंत्री डॉ.अनिल शर्मा एवं केन्द्रीय मीडिया संयोजक डॉ. रमा सिंह ने बताया कि,’श्रीकृष्ण जन्माष्टमी’ के पुनीत अवसर पर हिन्दी के विश्वभर में उन्नयन,उसे विश्वभाषा बनाने के लक्ष्य में यह प्रयास मील का पत्थर साबित होगा,इसलिए समिति का स्वरूप गठित किया गया है। इसमें डॉ. शुक्ल के अतिरिक्त अंतर्राष्ट्रीय महासचिव पद पर डॉ.करुणाशंकर उपाध्याय(मुम्बई) को मनोनीत किया गया है। ऐसे ही विविध देशों के संयोजकों में अमेरिका में डॉ.नीलू गुप्ता (कैलीफोर्निया),श्रीलंका में डॉ. उपुल रंजीथा,जापान में डॉ. तोमोको किकुचि सहित इजरायल में डॉ.गेनादी श्लोम्पर, कनाडा में डॉ.रत्नाकर नराले,पोलैंड में डॉ.सुधांशु शुक्ल,नेपाल में डॉ. श्वेता दीप्ति,मारीशस में डॉ.हेमराज सुन्दर और रूस में डॉ.रामेश्वर सिंह को लिया गया है। ऐसे ही इंग्लैंड(यू के)से तेजेंद्र शर्मा,कंबोडिया से मनीष शर्मा,संयुक्त अरब अमीरात से पंकज कुमार सिंह,यूक्रेन से राकेश शंकर भारती,नार्वे से डॉ. सुरेशचंद्र शुक्ल ‘शरद आलोक’,त्रिनिदाद एण्ड टुबेगो से श्रीमती कादम्बरी आदेश सहित आस्ट्रेलिया से डॉ. संजय अग्निहोत्री को संयोजक की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
अध्यक्ष डॉ. शुक्ल तथा महासचिव डॉ. उपाध्याय(मुम्बई विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष)ने सभी देशों के संयोजकों को हार्दिक बधाई देते हुए अपेक्षा की है कि वे अपने-अपने देशों की कार्यकारिणी शीघ्र ही गठित करके हिन्दी साहित्य तथा हिन्दी भाषा के उन्नयन एवं हिंदी को विश्वभाषा के पद पर प्रतिष्ठित करने में अपना सक्रिय योगदान देंगे।
समिति की घोषणा पर केन्द्रीय महामंत्री डॉ.अनिल शर्मा,डॉ. रमा सिंह,संयोजन समिति से रामचरण ‘रुचिर’ एवं समस्त केन्द्रीय कार्यकारिणी सहित प्रादेशिक पदाधिकारीगणों ने भी अध्यक्ष डॉ. शुक्ल को साधुवाद देते हुए उनके द्वारा हिन्दी के व्यापक विस्तार एवं उन्नयन में महती भूमिका निभाने के लिए हार्दिक आभार व्यक्त किया है,साथ ही तथा संयोजकों को हृदयतल से शुभकामनाएं दी हैं।

Leave a Reply