रचना पर कुल आगंतुक :138

रोशन

मनोरमा चन्द्रा
रायपुर(छत्तीसगढ़)
****************************************************

सभी दिशा रोशन रहे,
ऐसा करें प्रयास।
ज्ञान-दीप का लौ जले,
तमस मिटे भव खास॥

मनुज भेद अति भाव से,
मुँह लेना नित मोड़।
जीवन रोशन से भरे,
राग-द्वेष को छोड़॥

रवि प्रकाश फैले धरा,
करता जगत अँजोर।
वृक्ष-लता कर नव सृजन,
होते भाव-विभोर॥

उजला कपड़ा धार कर,
मन में रख मत खोट।
सूझ-बूझ से कर्म कर,
घातक लगे न चोट॥

तमस हृदय से नित मिटे,
अर्जित कर गुरु ज्ञान।
कहे रमा ये सर्वदा,
रोशन भरे जहान॥

परिचय-श्रीमति मनोरमा चन्द्रा का जन्म स्थान जिला रायगढ़(छग)स्थित खुड़बेना (सारंगढ़) तथा तारीख २५ मई १९८५ है। वर्तमान में रायपुर स्थित कैपिटल सिटी (फेस-३) सड्डू में निवासरत हैं,जबकि स्थाई पता-जैजैपुर (बाराद्वार-जिला जांजगीर चाम्पा,छग) है। छत्तीसगढ़ राज्य निवासी श्रीमती चंद्रा ने एम.ए.(हिंदी),एम.फिल.,सेट (हिंदी)सी.जी.(व्यापमं)की शिक्षा हासिल की है। वर्तमान में पी-एच.डी. की शोधार्थी(हिंदी व्यंग्य साहित्य) हैं। गृहिणी व साहित्य लेखन ही इनका कार्यक्षेत्र है। लेखनविधा-कहानी, कविता,हाइकु,लेख(हिंदी,छत्तीसगढ़ी)और निबन्ध है। विविध रचनाओं का प्रकाशन कई प्रतिष्ठित दैनिक पत्र-पत्रिकाओं में छत्तीसगढ़ सहित अन्य में हुआ है। आप ब्लॉग पर भी अपनी बात रखती हैं। इनकी विशेष उपलब्धि -विभिन्न साहित्यिक राष्ट्रीय संगोष्ठियों में भागीदारी,शोध-पत्र,राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में १३ शोध-पत्र प्रकाशन व साहित्यिक समूहों में सतत साहित्यिक लेखन है। आपकी लेखनी का उद्देश्य-हिंदी भाषा को लोगों तक पहुँचाना व साहित्य का विकास करना है।

Leave a Reply