manorama

Showing 10 of 65 Results

कठिनाई

डॉ. मनोरमा चन्द्रा ‘रमा’रायपुर(छत्तीसगढ़)******************************************* कठिनाई के बाद भी,जो रण लेते जीत।सर्व खुशी उनको मिले,सबके बनते मीत॥ आती-जाती मुश्किलें,करे तुम्हें तैयार।घबराना मत तू कभी,जीत मिले या हार॥ कठिन परिश्रम कर चलें,आए […]

विनय कर भाग्य जगाओ

डॉ. मनोरमा चन्द्रा ‘रमा’रायपुर(छत्तीसगढ़)******************************************* करूँ ईश गुणगान,विनय कर साँझ सवेरे।कृपा करो श्रीनाथ,द्वार हैं आए तेरे॥करते भक्त पुकार,हृदय में आस जगाएँ।करें कामना पूर्ण,सभी शुभ फल को पाएँ॥ विनय भाव मन धार,कृत्य […]

नसीब

मनोरमा चन्द्रारायपुर(छत्तीसगढ़)******************************************* सुख-दु:ख मिले नसीब से,होना नहीं उदास।दृढ़ निश्चय से कर्म कर,मानव जीवन खास॥ किस्मत खेले खेल अति,हुआ बहुत नुकसान।फसलों में ओले पड़े,छीने मुख मुस्कान॥ भाग्य उदय कर लें चलो […]

मंगल प्रभात हो

मनोरमा जोशी ‘मनु’ इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** प्राची का पथ लीप सहेली,घर-घर में मंगल प्रभात होदीन-दुखी नंगे-भूखों के,खुशहाली मय दिवस रात हो।अरुण थाल रोली भर लाए,आँगन में सबके बिखराएरहे न कोई इस वसुधा […]

रोशन

मनोरमा चन्द्रारायपुर(छत्तीसगढ़)**************************************************** सभी दिशा रोशन रहे,ऐसा करें प्रयास।ज्ञान-दीप का लौ जले,तमस मिटे भव खास॥ मनुज भेद अति भाव से,मुँह लेना नित मोड़।जीवन रोशन से भरे,राग-द्वेष को छोड़॥ रवि प्रकाश फैले […]

नारी है नारायणी

मनोरमा जोशी ‘मनु’ इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** नारी है नारायणी,नारी नर की खाननारी से ही उपजे नर,ध्रव प्रहलाद समान।घर-परिवार का सबका,रखती ध्यान अनन्यगुणों की खान।बंधनों के निबद्धभावनाओं की स्वतंत्र,अभिव्यक्ति हैं नारी।कटीली नागफनी राहों,में […]

शांति का ध्वज फहराएंगे

मनोरमा जोशी ‘मनु’ इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** विश्व शांति दिवस स्पर्धा विशेष…… हम देश के सच्चे सेवकमानवता का फर्ज निभाएंगेहम विश्व शांति का,ध्वज फहराएंगे। अमन-चैन की पवन चले,चहुँओर खुशियाली छाएगमों के बादल न […]

वसुंधरा

मनोरमा चन्द्रारायपुर(छत्तीसगढ़)******************************************************** वसुंधरा को वंदना,आओ कर लें रोज।चाहे हम रहते कहीं,लेगी माता खोजll पंच तत्व में एक है,भूमि तत्व भी जान।मिट्टी से तन है बना,पंचरतन इंसानll भूमि भवन भव भव्य […]

चैत पवनियां

मनोरमा जोशी ‘मनु’ इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** चैत पवनियां बहती जाए, लौ बैसाख बुलायो रे ग्रीष्म हाहाकार मचाए, तन-मन तरू झुलसाए। खाली-खाली पोखर नाले, पानी बिन ज्यों खाली प्याले सूखा पन तरसाए, तन-मन […]

वीरों में वीर महाराणा प्रताप

मनोरमा जोशी ‘मनु’  इंदौर(मध्यप्रदेश)  **************************************************** ‘महाराणा प्रताप और शौर्य’ स्पर्धा विशेष………. वीरों में वीर महाराणा प्रताप, बालपन से स्वाभिमानी थे घास की रोटी खाने वाले, वह योद्धा खुद्धारी थे। बाईस […]