साहित्य

Showing 10 of 8,979 Results

ये दुनिया है जनाब

उमेशचन्द यादवबलिया (उत्तरप्रदेश) *************************************************** ये दुनिया है जनाब,बैठा था यूँ हीसोचा लिखने के लिए,चलो कलम उठा लेते हैं। क्या लिखूँ मैं…?प्रश्न आया मन में,सोंचा, दुनिया में हूँ!चलो दुनियादारी सुना लेते हैं। […]

सफर बहुत कठिन, मगर..

डॉ. श्राबनी चक्रवर्तीमनेन्द्रगढ़ (छत्तीसगढ़)********************************************* ये सफर बहुत है कठिन मगर,तू जो बन जाए मेरा हमसफ़रजीवन के ये टेढे़-मेढ़े डगर,मुड़ जाते हैं सब एक नगर। ऊँची-नीचे पथरीली सतह पर,कभी नर्म घास […]

बाली में हुआ संग्रह ‘काव्य उड़ान-भारत से विश्व तक’ का विमोचन

बाली (इंडोनेशिया)। बाली में भारत के प्रधान कौंसल प्रकाश चन्द ने साझा काव्य संग्रह ‘काव्य उड़ान-भारत से विश्व तक’ का विमोचन किया। यह विभिन्न देशों में रह रहे १५ भारतीय […]

क़िस्मत के सभी तमाशे

तारा प्रजापत ‘प्रीत’रातानाड़ा(राजस्थान) ***************************************** चारों ओर है पानी ही पानी,फिर भी ना जाने क्यों प्यासे हैं। माया के हैं भरे भंडारे,खाली सबके कांसे हैं। कोई जीता है कोई हारा,क़िस्मत के सभी […]

जीवन, भगवान और माॅं

हीरा सिंह चाहिल ‘बिल्ले’बिलासपुर (छत्तीसगढ़) ********************************************* भगवान हैं माॅं रूप में, पहचान लो सम्मान दो,देते नहीं सम्मान तो अपमान भी माॅं का न हो। माॅं बिन नहीं जीवन कहीं, हर […]

धैर्य रख

ममता तिवारी ‘ममता’जांजगीर-चाम्पा(छत्तीसगढ़)************************************** धैर्य रख काम करे होता है वही सफल,कितनी बड़े धैर्य से, विपत्तियां जाती टल। दल बीच छुपा रखे मकरंद को कमल,भौंरा रस ग्राही पी ले, कितना भी […]

पायल आन

प्रो.डॉ. शरद नारायण खरेमंडला(मध्यप्रदेश)******************************************* नारी के श्रंगार सँग, पायल सोहे ख़ूब।लज्जा है,सम्मान है, आकर्षण की दूब॥ रहता पायल में सदा, शील और निज आन।पायल में बसते सतत्, अनजाने अरमान॥ पायल […]

आँसू ही बचे

संदीप धीमान चमोली (उत्तराखंड)********************************** एक आँसू ही बचे हैंतेरे अभिषेक को,क्या बहा दूं तुझ परअपने विवेक को! गिड़गिड़ा रहा तेरे दरसुनो ना तुम शम्भू,कहां बहाऊं मैंअब अपने आवेग को। खो दिया […]

ओ जाड़े, जरा बचपन की सैर करा रे

बबीता प्रजापति ‘वाणी’झाँसी (उत्तरप्रदेश)****************************************** ओ जाड़े!जरा बचपन की सैर करा रे,कोहरे में बरसे कल्पनाएंजैसे इंद्रलोक यहाँ रे।ओ जाड़े…! एक कम्बल संग प्रेम बांटते,भाई-बहन में प्रेम सदा रे।ओ जाड़े…! सूरज निकले […]

उद्यम से ही जीवन

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* उद्यम करते जो मनुज, होते कारज सिद्ध।कर्महीन नर का हृदय, होता हर क्षण विद्ध॥होता हर क्षण विद्ध, कभी भी सफल न होता।रहता पौरुषहीन, समय को यूँ […]