jaswant

Showing 10 of 12 Results

राखी की लाज रख देना

जसवंतलाल खटीकराजसमन्द(राजस्थान)************************************************************* रक्षाबंधन पर्व विशेष……….. राखी का त्यौहार आया,संग में खुशियां हजार लाया।भाई-बहन का सच्चा प्यार,प्रेम के धागे में पूरा समाया॥ बहन अपने पीहर आयी,घर में फिर से रौनक छायी।बाबुल […]

कोरोना हारेगा हमारी एकता से

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* वाह रे, ‘कोरोना!’ तूने तो गजब कर डाला, छोटी सोच और अहंकार को… तूने चूर-चूर कर डाला। वाह रे,कोरोना… पैसों से खरीदने चले थे दुनिया, ऐसे […]

‘बेटी बचाओ’ नारा खतरे में

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* मछली-सी हो गयी हो तुम, बाहर निकलो तो मर जाओगी। भेड़िये से बैठे है दरिंदे, इनसे कभी ना बच पाओगी॥   कब तक यूँ ही चलता […]

दिल से दीवाली मनाएंगे

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* गया खुशियों का त्यौहार,आ गयी देखो दीवाली, ऐसा कुछ हम काम करेंगे,हर घर में मनेगी दीवाली। गरीब कुम्हार से दीपक ले के,उसकी रोशन शाम करेंगे, दिल […]

गीत प्यार के गाऊंगा

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* करवा चौथ मनाऊंगा, मैं गीत प्यार के गाऊंगा। मैं भी तो अपनी सजनी के, खूब लाड़ लड़ाऊंगा॥ करवा चौथ मनाऊंगा… जब जब उसको देखता हूँ, मन […]

आजादी संग मनेगी राखी

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* क्या अजीब संजोग मिला है, आजादी संग मनेगी राखी। तभी दिल में एक प्रश्न उठा है, क्या आजादी अभी है बाकीll कलाई सजेगी राखी से और, […]

श्रद्धा होनी चाहिए

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* श्रद्धा होनी चाहिए, ज्यादा नहीं,पर थोड़ी तो होनी चाहिए। कभी-कभी जब हम अंदर से टूट जाते हैं, तब अंतर्मन को शक्ति दे दे… ऐसे भगवान पर […]

समय रहते सम्भल जाओ

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* मुझको लगते हैं प्यारे, वन्यजीव देखो हमारे। अब इनको बचाना है, बचेंगे तभी वन हमारे॥ क्यों लगाते हो आग वन में, क्यों पहुँचाते हो नुकसान। पर्यावरण […]

बेनाम रिश्ता

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* सब कुछ थी वह पगली,मेरी जिंदगी व मेरा रब, मेरे दिल की थी धड़कन,मेरा प्यार मेरा मजहब। मेरा पहला प्यार थी,किसी की अमानत बन गयी, मेरे […]

दिल से देता हूँ वोट..

जसवंतलाल खटीक राजसमन्द(राजस्थान) ************************************************************* मैं सबको सुनाता हूँ लेकिन,मैं हूँ बहरा किसी की नहीं सुनता मैं ये,आज कह रहा। मैं दिल से देता हूँ वोट,पैसों से नहीं, मेरा वोट है […]