रचना पर कुल आगंतुक :191

You are currently viewing जब तक संतुलित साथ रहेगा…

जब तक संतुलित साथ रहेगा…

प्रीति शर्मा `असीम`
नालागढ़(हिमाचल प्रदेश)
******************************************************************

प्रकृति और मानव स्पर्धा विशेष……..


प्रकृति और मानव का,
जब तक संतुलित साथ रहेगा।
जीवन की धारा का,
निरन्तर तभी तक विस्तार रहेगा।

कद्र मानव जब तक प्रकृति की,
नहीं करेगा।
तब तक आपदाओं का,
ऐसे ही मचता हाहाकार रहेगा।
प्रकृति और मानव का,
जब तक संतुलित साथ रहेगा…

मानव ने प्रकृति से,
जब-जब है खेला।
कभी भूकम्प…,
कभी सुनामी…l
अब आकर भीषण आपदा,
`कोरोना` ने आ घेरा।

प्रकृति को संभालो,
यह रक्षक है मानव कीl
न दौड़ो विकास की अंधी दौड़,
कहीं नहीं मिटेगी,यह बेवजह की होड़।

नाश जब-जब करोगे,
तब-तब तुम मानवl
प्रकृति का सामना करोगे,
किसी न किसी,
महामारी का सामना करोगेll

परिचय-प्रीति शर्मा का साहित्यिक उपनाम `असीम` हैl ३० सितम्बर १९७६ को हिमाचल प्रदेश के सुंदरनगर में अवतरित हुई प्रीति शर्मा का वर्तमान तथा स्थाई निवास नालागढ़(जिला सोलन,हिमाचल प्रदेश) हैl आपको हिन्दी,पंजाबी सहित अंग्रेजी भाषा का ज्ञान हैl पूर्ण शिक्षा-बी.ए.(कला),एम.ए.(अर्थशास्त्र,हिन्दी) एवं बी.एड. भी किया है। कार्यक्षेत्र में गृहिणी `असीम` सामाजिक कार्यों में भी सहयोग करती हैंl इनकी लेखन विधा-कविता,कहानी,निबंध तथा लेख है।सयुंक्त संग्रह-`आखर कुंज` सहित कई पत्र-पत्रिकाओं में आपकी रचनाएं प्रकाशित हैंl आपको लेखनी के लिए प्रंशसा-पत्र मिले हैंl सोशल मीडिया में भी सक्रिय प्रीति शर्मा की लेखनी का उद्देश्य-प्रेरणार्थ हैl आपकी नजर में पसंदीदा हिन्दी लेखक-मैथिलीशरण गुप्त,जयशंकर प्रसाद,निराला,महादेवी वर्मा और पंत जी हैंl समस्त विश्व को प्रेरणापुंज माननेवाली `असीम` के देश और हिंदी भाषा के प्रति विचार-“यह हमारी आत्मा की आवाज़ है। यह प्रेम है,श्रद्धा का भाव है कि हम हिंदी हैं। अपनी भाषा का सम्मान ही स्वयं का सम्मान है।”

Leave a Reply