कुल पृष्ठ दर्शन : 264

You are currently viewing फूलों की पहली भेंट

फूलों की पहली भेंट

दीपक शर्मा

जौनपुर(उत्तर प्रदेश)

*************************************************

काव्य संग्रह हम और तुम से….

मैंने लगा दिया
एक नन्हा-सा फूल का पौधा।
जो फूल तुम्हें बहुत पसंद था,
उसकी महक वैसी ही होगी
जैसी तुम्हारी ख़्वाहिश थी,
अब ऐसे ही अनेक पौधे लगाऊँगा।
सब बड़े होंगे,सब खिलेंगे,
उसकी महक दूर-दूर तक जाएगी।
जहाँ तुम हो,
वहाँ तक जाएगी।
तब मेरे हाथ की दी हुई
फूलों की पहली भेंट,
तुम्हें जरूर याद आएगी॥

परिचय-दीपक शर्मा का स्थाई निवास जौनपुर के ग्राम-रामपुर(पो.-जयगोपालगंज केराकत) उत्तर प्रदेश में है। आप काशी हिंदू विश्वविद्यालय से वर्ष २०१८ में परास्नातक पूर्ण करने के बाद पद्मश्री पं.बलवंत राय भट्ट भावरंग स्वर्ण पदक से नवाजे गए हैं। फिलहल विद्यालय में सहायक अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं।आपकी जन्मतिथि २७ अप्रैल १९९१ है। बी.ए.(ऑनर्स-हिंदी साहित्य) और बी.टी.सी.( प्रतापगढ़-उ.प्र.) सहित एम.ए. तक शिक्षित (हिंदी)हैं। आपकी लेखन विधा कविता,लघुकथा,आलेख तथा समीक्षा भी है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में इनकी कविताएँ व लघुकथा प्रकाशित हैं। विश्वविद्यालय की हिंदी पत्रिका से बतौर सम्पादक भी जुड़े हैं। दीपक शर्मा की लेखनी का उद्देश्य-देश और समाज को नई दिशा देना तथा हिंदी क़ो प्रचारित करते हुए युवा रचनाकारों को साहित्य से जोड़ना है।विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं द्वारा आपको लेखन के लिए सम्मानित किया जा चुका है।

Leave a Reply