nlm

Showing 10 of 34 Results

तू तमन्ना की चाँदनी

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) ********************************************************* दोस्तों की महफ़िल में हुस्न की बात चली,हर जुबाँ से तेरे ही नाम की आह निकली। दिल की जुबाँ का हर चेहरा,काश! कशमकश की खामोशी […]

मेवाड़ मुकुट

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** ‘महाराणा प्रताप और शौर्य’ स्पर्धा विशेष………. राजपूताना ऐतिहासिक पृष्ठ भूमि, रक्त स्राव की धारा घाव की पीड़ा। युद्ध भूमि का पराक्रम,साहस,शक्ति,शौर्य की प्रतिष्ठा, परिभाषा […]

असली-नकली चेहरा!

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** किसी की आँखों शबनम जैसे बेवफा के आँसू, किसी के जख्म जहरीली मुस्कान। किसी का मुस्कुराता गम में भी चेहरा, औरों के गम पे […]

जन्नत की जीनत

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** आँखों को मलती मसलती बालों में हाथों की कंघी फेरती, आईने में खुद का चेहरा निहारती। रात की नींद के ख्वाब से जागती, कली […]

भारत की संस्कृति-संस्कार,ताकतवर हथियार

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** विश्व लड़ रहा युद्ध मची हाहाकार,ना मैदान युद्ध का-ना गोली-ना तोप-बारूद,ना बम वर्षा,ना एटमी हथियार की धमकी,ना मिसाइल की मार, घर में बैठा इंसान […]

सारथी का स्वार्थ बस इतना-सुरक्षित भारत रहे

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** कोरोना का सच-दुश्मन है गुमनाम नहीं क़ोई ईमान है, चहुँओर जोखिम खतरे का रोना ‘कोरोना’ भान है। किस तरह कैसे करेगा वार दुनिया अनजान […]

हम हैं भारतवासी,हमारी खास पहचान

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** हर सुबह ऊषा कीबेला संग लाती नव जीवन का संकल्प मधुर मुस्कान, हम हैं भारतवासी,हमारी खास पहचान। हर ऊषा की बेला में मन्दिर में […]

तेरी चाहत दुनिया की तकदीर

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** लव है पैमाना,नज़रे है मैख़ाना, तेरी चाहत दुनिया की तकदीर दीदार बिन पिए बहक जाना। सावन की घटाएं तेरी जुल्फें अंदाज है मस्ताना, गजगामिनी […]

नारी है जग जननी है लक्ष्मी

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** नारी है जग जननी है लक्ष्मी, जन-जन जीवन की संगिनी। बहना है भाई की ताकत, इज़्ज़त का गहना है। ब्रह्माण्ड निर्माण की आधार, बिन […]

ब्रह्माण्ड का न्यासी सन्यासी

एन.एल.एम. त्रिपाठी ‘पीताम्बर’  गोरखपुर(उत्तर प्रदेश) *********************************************************** भोला शंकर औघड़दानी ब्रह्माण्ड का पालन कर्ता, जीव जीवन आत्मा का परमात्मा कराल विकराल महाकाल शिवा सत्य सत्यार्थ। तन में भस्म लगाये पहने मृगछाला, […]