काव्यभाषा

5 views

नये विचार दे चलो

डॉ.गोपाल कृष्‍ण भट्ट ‘आकुल’  महापुरा(राजस्‍थान) *************************************************************************************** (रचना शिल्प:छंद-द्विगुणित प्रमाणिका(वार्णिक), मापनी-१२ १२ १२ १२, १२ १२ १२ १२,पदांत-दे चलो,समांत-आर)...

6 views

नयी उम्मींदें-नया आसमां

डॉ. आशा गुप्ता ‘श्रेया’ जमशेदपुर (झारखण्ड) ******************************************* महफ़िलों का दौर चलते रहे, नयी उम्मीद संग नया आसमांl ऋतुएँ...

10 views

गणतंत्र दिवस मनाने दो

सौदामिनी खरे दामिनी रायसेन(मध्यप्रदेश) ****************************************************** गणतंत्र दिवस विशेष.......................... मैं तो बह रहा हूँ एक निर्झर-सा, मत रोको,मुझे बह जाने...

6 views

वीर सैनिक

केवरा यदु ‘मीरा’  राजिम(छत्तीसगढ़) ******************************************************************* वीर देश का सैनिक हूँ, देश के हित मिट जाऊँगाl जिस माटी में...

13 views

अजीब रिश्ते

डॉ.चंद्रदत्त शर्मा ‘चंद्रकवि’ रोहतक (हरियाणा) ******************************************************* दुनिया में कुछ ऐसे भी रिश्ते हैं, जिनका कोई नाम नहीं होताl...

14 views

ऐ सरहद पार से आने वाली हवाओं

दीपक शर्मा जौनपुर(उत्तर प्रदेश) ************************************************* ऐ सरहद पार से आने वाली हवाओं, तुम आओ तुम्हारा इस मुल्क में...

19 views

वन्दे भारतम्

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) *************************************************************************************** सुविधाम्,सुसंकारम्,कैलाश शीतलाम्, राम-रहीम मातरम्,भारतम् उज्ज्वलम्। सरस्वती कंठम् ,गंगाम् न वर्ण भेदम्, यमुना की बहती...

9 views

देशप्रेम

अमितू भारद्वाज शिकोहपुर (उत्तरप्रदेश) ************************************************************************************ दिल में जो देश का प्रेम नहीं,तो फिर जिन्दा रह जाना क्या, जो...

12 views

क्यों खुदा ढूंढते हो

संजय जैन  मुम्बई(महाराष्ट्र) ************************************************ हम क्यों रोज-रोज ख़ुदा ढूंढें, जिसको न मिले हों वही ढूंढें। मेरे मात-पिता ही,मेरे...

8 views

जाड़ा

वकील कुशवाहा आकाश महेशपुरी कुशीनगर(उत्तर प्रदेश) ****************************************************************** ठिठुर-ठिठुर कर जाड़े में हम क्या बतलाएँ भाई, थर-थर,थर-थर कांप रहे हैं...