दोहा

14 views

महाकुंभ

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’ बेंगलुरु (कर्नाटक) **************************************************************************** भावों का अतिरेक है,कवियों का उद्गार। महाकुंभ संगम तले,प्रेम भक्ति आगारll...

17 views

गणतंत्र दिवस

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** गणतंत्र दिवस विशेष..................................... जन गण मन की जीत हो,जय हो भारत...

20 views

नारी

डॉ.एन.के. सेठी बांदीकुई (राजस्थान) ************************************************************************* नारी घऱ की शान है,बिन नारी घर सून। नारी का सम्मान हो,खिलते वहाँ...

17 views

माता मेरी ये धरा…

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** धरती अपनी धारिणी,माता रूप समान। करो वन्दना प्रेम से,इनसे हैं इंसान॥...

22 views

देना है दातार तो..

बाबूलाल शर्मा सिकंदरा(राजस्थान) ************************************************* देना हो दातार तो,दे शबरी सी प्रीत। पवन तनय-सी भक्ति दे,कर्ण सरीखा मीत॥ भ्राता...

27 views

हिंदी प्रेमी हैं सभी

छगन लाल गर्ग “विज्ञ” आबू रोड (राजस्थान) **************************************************************************** (रचना शिल्प:भ्रमर दोहा-२२ गुरू,४ लघु) हिंदी प्रेमी हैं सभी,शिक्षा देती...

16 views

भारत देश

डॉ.विद्यासागर कापड़ी ‘सागर’ पिथौरागढ़(उत्तराखण्ड) ****************************************************************************** भांति-भांति के गीत हैं, भांति-भांति के वेष। कई सुमन की वाटिका, अपना भारत...

17 views

विरह

ओम अग्रवाल ‘बबुआ’ मुंबई(महाराष्ट्र) ****************************************************************** विरह वेदना के घुंघरू,मनवीणा के तारों में, सन्नाटों का शोर गूँजता,नयनों की झंकारों...

37 views

फुरसत

बोधन राम निषाद ‘राज’  कबीरधाम (छत्तीसगढ़) ******************************************************************** फुरसत से आ बैठ ले,करते हैं कुछ बात। प्रिये आज मौसम...

18 views

गणपति वंदना

डाॅ.अचलेश्वर कुमार शुक्ल ‘प्रसून’  शाहजहाँपुर(उत्तरप्रदेश) ****************************************************** मंगल करते हैं सदा,हरते विघ्न गणेश। चरण शरण राखो प्रभु,रक्षक हो 'अचलेश'॥...