avd

Showing 10 of 18 Results

सर्वदा साथ मिलकर रहें

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ********************************** कयामत की देवी कयामत न ढहाओ,कयामत से दुनिया बिखर जाएगीकयामत खिलाफत बगावत अदावत,करोगे तो दुनिया ये मर जाएगी।चलो साथ मिलकर ये दुनिया बचायें,बचायें प्रकृति और […]

उम्मीद

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय **************************************** उम्मीदों के भँवर जाल में फँसकर मानव,सपनों के अगणित तानों को तुड़प रहा है। चंचल इन्द्रिय पर संयम के अंकुश डाले,हृदि सरगम में प्रिय गानों […]

गुरु महिमा

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय *************************************************************** गुरु महिमा सबसे बड़ी,गुरु से बड़ा न कोयगुरु बिनु ज्ञान मिले नहीं,सो गुरु पूजन होय। जिनको सच्चा गुरु मिले,मिले ज्ञान की खान,गुरु अरु माता एक […]

अवसरवाद पर घातक प्रहार का अचूक आयुध आका बदल रहे हैं

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय *************************************************************** वैश्विक संस्कृतियों के घालमेल ने उपभोक्तावाद के चंगुल में मानवतावाद को तड़पने के लिए सौंप दिया है। अवसरवाद को कौशल के रूप में परिभाषित किया […]

गुरु सब धन की खान रे

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय *************************************************** शिक्षक दिवस विशेष……….. गुरु से शिक्षा गुरु से दीक्षा,गुरु सब धन की खान रे,गुरु जैसा नहिं दूजा कोई,बात हमारी मान रे।गुरु के चरणों में जन्नत […]

समाज को सकारात्मक परिवर्तन हेतु प्रेरित करेगी धनुष उठाओ हे अवधेश

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय *************************************************************** संत कबीर की उक्ति दु:ख में सुमिरन सब करै…” आज भी प्रयोजन युक्त है। दुखिया है कौन! कबीर बाबा बताते हैं कि,…दुखिया दास कबीर है…।अर्थात् […]

गुड्डा-गुड्डी का रक्षाबंधन

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** रक्षाबंधन पर्व विशेष……….. गुड्डा-गुड्डी हैं तैयार,हँसते-गाते करते प्यार। पहने नये-नये पोशाक,खूब जमाते दोनों धाक। रोली चंदन अगर कपूर,मीठे लड्डू मोतीचूर। राखी बाँधी गुड्डी आज,गुड्डा का […]

सबको अपनाकर हिंदुस्तान बनाया

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** हिंदी ने सबको अपनाकर हिंदुस्तान बनाया है,भारत की हर भाषा के सँग मिलकर साथ निभाया।अंग्रेजी ने किन्तु खींच दी बँटवारे की कटु रेखा-काले अंग्रेजों ने […]

हिंदी का गुणगान करें

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** हिंदी ने सब कुछ सिखलाया,हिंदी का गुणगान करें, जिसने जना चंद जगनिक कवि,उसका हम सम्मान करें। खुसरो की ‘कह मुकरी’ जिसकी गोदी में मुस्काती हो- […]

हर दिल की आशा हो

अवधेश कुमार ‘अवध’ मेघालय ******************************************************************** सभी के दिल में हो हिन्दी यही हर दिल की आशा हो, इसी से देश की गरिमा सभी का दिल पियासा हो। चलो हम एक […]