ईर्ष्या भाव नहीं, सच्चा मनुज वही

डॉ.एन.के. सेठीबांदीकुई (राजस्थान) ********************************************* जिसके ईर्ष्या भाव नहीं है।जग में सच्चा मनुज वही है॥ईर्ष्या डाह रखे क्यों मानव।सदा स्वार्थवश बनता दानव॥ औरों की खुशियों से जलता।ईर्ष्या भाव हृदय में पलता॥रोग…

0 Comments

दाना-पानी नहीं सुहाए

डॉ.राम कुमार झा ‘निकुंज’बेंगलुरु (कर्नाटक) ************************************************* दाना पानी नहीं सुहाए, घोटालों में हमें फँसाए।वर्तमान सत्ता मतवाली,माने हम सबको मधुशाली॥ पास चुनावी हो रणभेरी, आरोपों में सबको घेरी।झोला भर-भर गाली देते,…

0 Comments

कष्ट हरो भोले भंडारी

डॉ. गायत्री शर्मा’प्रीत’इन्दौर (मध्यप्रदेश )******************************************* कष्ट हरो भोले भंडारी, विपदा आई हम पर भारी।सर पर सोहे गंगा धारा, भवसागर से पार उतारा॥गौरा रानी संग विराजे, मस्तक चंदा प्यारा साजे।गले सोहती…

0 Comments

जीवन का अस्तित्व है नारी

डॉ.आशा आजाद ‘कृति’कोरबा (छत्तीसगढ़)**************************************** अस्तित्व बनाम नारी (महिला दिवस विशेष)... स्वर्णिम जीवन देती नारी।धरती की वो है अवतारी॥जीवन सबका श्रेष्ठ बनाती।शुभ नव सुंदर मार्ग दिखाती॥ प्रेमभाव नित हिय में धारे।सकल…

0 Comments

विकसित देश कैसे बनेगा!

डॉ.आशा आजाद ‘कृति’कोरबा (छत्तीसगढ़)**************************************** विकसित कैसे देश बनेगा।भारत कैसे आज बढ़ेगा॥जब सच्चे पथ होगें नेता।कहलाएँगे वहीं प्रणेता॥ लोकतंत्र का मान घटाते।मंत्रीपद का मान गिराते॥जन जनता से मत है मांगें।पीर देखकर…

0 Comments

शक्ति, भक्ति और दिखावा

डॉ.आशा आजाद ‘कृति’कोरबा (छत्तीसगढ़)**************************************** शक्ति, भक्ति और दिखावा... जगह-जगह है आज दिखावा।भक्ति भाव का करते दावा॥मन में कितना द्वैष समाया।सच्चा मन कैसे कहलाया॥ मन धीरज हिय कैसे आए।निंदा में जब…

0 Comments

हिंदी भाषा बोलें

आशा आजाद`कृतिकोरबा (छत्तीसगढ़)**************************************** हिंदी संग हम.... हिंदी भाषा अपनी सुंदर।बोल लगे है अति शुभ सुखकर॥मृदुवाणी इससे ही आती।ह्दय भाव को नित्य लुभाती॥ हिंदी भाषा हिय पर धारें।शुद्व व्याकरण काज सँवारे॥धारण…

0 Comments

भारत की उड़ान ‘चंद्रयान’

आशा आजाद`कृतिकोरबा (छत्तीसगढ़)**************************** भारत पर पंचम लहराया। चंद्रयान शुभ लक्ष्य दिखाया॥चाँद गगन पर शोभित सुंदर। देश हमारा सबसे बढ़कर॥ वैज्ञानिक ने लक्ष्य बनाया। नव पथ पर नित केन्द्र लगाया॥सूक्ष्म गहन…

0 Comments

मणिपुर की दरिंदगी

आशा आजाद`कृतिकोरबा (छत्तीसगढ़)**************************** दरिंदगी अरु खेल तमाशा।नारी रोती टूटे आशा।जानवरों से बत्तर जानें।मणिपुर की यह घटना जानें॥ आज देश फिर हुआ कलंकित।निर्लज मानव में कुछ अंकित।अनाचार की सीमा तोड़े।दरिंदगी से…

0 Comments

भोर वंदना

हीरा सिंह चाहिल ‘बिल्ले’बिलासपुर (छत्तीसगढ़)********************************************* हे प्रभु जग का कल्याण करो।निज रचना में प्रभु प्राण भरो॥जीवन नहिं सृष्टि बिना सजता।लेकिन यह समझ नहीं सकता॥ बिन ज्योति जगत में अंधियारा।प्रभु ज्योति…

0 Comments