pathak

Showing 10 of 41 Results

रो रहा है आसमां

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** रो रही धरती अभी,रो रहा है आसमां, जल रहा सारा जगत,बुझती हर इक शमा। मौत का मंज़र यहाँ,ख़ौफ़ में सारा जहाँ, साँस सबकी थम […]

माँ दुर्गे नजर आने लगी

अर्चना पाठक निरंतर अम्बिकापुर(छत्तीसगढ़) ***************************************************************************** माता रानी के चरणों में गिरती गई, इन हवाओं से कैसे मैं घिरती गई। ये कदम उठते हैं तेरे द्वारे पे माँ, तेरी गलियाँ मुझे सिर्फ […]

भारतीयता अपनाएं, ‘कोरोना’ भगाएं

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** ‘कोरोना’ से बचाव के लिए पूरी दुनिया आज ताली बजाकर जागरण कर रही है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी २२ मार्च को ताली बजाकर सन्देश […]

नहीं यह देश है उसका

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** आंदोलन के नाम पे क्या,तुम सारा देश जला दोगे ? घुसपैठियों की ख़ातिर क्या,घर की नींव हिला दोगे ? शासन से मतभेद अगर है,आसन […]

मन बंजारा…

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** मन बंजारा तन बंजारा,ये जीवन बंजारा है, चार दिनों की ज़िन्दगी,बस इतना गुजारा है। ये मन भी कहाँ इक पल,चैन से सोता है, ख़्वाब […]

निःशब्द हूँ `दिशा`

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** निःशब्द हूँ `दिशा` क्या कहूँ ? यह भारत है जहाँ आतंकवादियों को भी, बचाने को वकील खड़ा हो जाता है फिर तो तुम्हारे गुनहगार […]

शहर

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** घने कोहरे में लिपटा, धुँआ-धुँआ सा है शहर। फिजां में धीरे घुलता, मीठा-मीठा-सा है जहर। किसी गरीब की फटी, झोली-सा है शहर। उसके शरीर […]

संहार करेगी

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** हैदराबाद घटना-विशेष रचना………….. कुचल डालो सर उसका,जिसने भी दुष्कर्म किया, मसल डालो धड़ उसका,जिसने भी यह कर्म किया। नहीं क्षमा ना दो संरक्षण,ना मज़हब […]

मुहब्बत

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** (रचनाशिल्प:१२२ १२२ १२२ १२२)  मुहब्बत मुहब्बत मुहब्बत हमारी, सलामत रहे प्यार चाहत हमारी। नहीं ख़्वाब कोई नहीं चाह कोई, नहीं कोई तुझसे शिकायत हमारी। […]

सिंदूर

पंकज भूषण पाठक ‘प्रियम’ बसखारो(झारखंड) *************************************************************************** चुटकी भर सिंदूर लगा, सजनी सुंदर सजती है। सोलह श्रंगार होता पूरा, माथे जो लाली रचती है। बिन इसके सुहाग अधूरा, हर नारी अधूरी […]