rohila

Showing 10 of 39 Results

सदभावना की हो हरियाली

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** फाल्गुन मास का संदेश, ज्यों प्रकृति में आई बहार चित्त में सदभावना की हो, हरियाली,सुख-शांति की बहारl प्रकृति पुरुष का हुआ मिलन, प्रेम का चित्त में […]

स्त्री वेदना को समझना होगा

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** आज विकासवाद के युग में मानव यह सोचता है कि हमने चाँद पर अपना आशियाना बना लिया,समुन्दर की गहराईयों को नाप दिया है,पर आज भी स्त्री […]

एक सीख

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** लोहड़ी हो या मकर संक्रांति, सीख दोनों की एक समान आओ सब प्रेम-पर्व बनाएं, सदभावना का प्रकाश फैलाएं। भीष्म का पितृ प्रेम बन गया, देशभक्ति का […]

समय का पहिया

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** क्षण बीते पल बीते-बीते दिनों-दिन, बारह महीने बीते ज्यों-ज्यों आया नव वर्ष का शुभ दिन, बधाईयों की झंकार से विश्व प्रफुल्लित। उन्नीस-बीस का अन्तर कहीं पर […]

राष्ट्रहित में सम्मान करना चाहिए कानून का

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** मुद्दा ‘नागरिकता संशोधन कानून’………. नागरिक कानून हम सब देशवासियों के लिए,नागरिकों के लिए सुरक्षा कवच है। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं, वह अपने देश […]

नारी की पीड़ा

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** युग युगान्तरों का है नारा, जहाँ नारी की हो पूजा देवताओं का वास वहां, भारत माता की धरा पर क्यों होती अग्नि परीक्षा ?यह कहावत-कहावत रही, […]

तीन रुपये का व्यय

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** एक राजा था। वह परा विद्या(अध्यात्म विद्या) का ज्ञाता था। एक दिन उसने अपने राज्य में ढिंढोरा पिटवाया,और सभी प्रजावासियों को महल में एकत्रित होने के […]

सोच ही सूर-असुुुर

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** विश्व बाल दिवस स्पर्धा विशेष……….. जिन्दगी कर्मों का बंधन है, मानव आता-जाता यहीं है जिसकी गोदी में पलता है, उससे भाषा का ज्ञान मिला है ईश्वर […]

शिक्षा में रामायण और गीता जरुरी

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** भौतिकवाद के युग में हम विकास की बुलंदियो को छू रहे हैं,और विश्व स्तर पर भौतिक विकास में चार चाँद लगा दिए हैं। तकनीकी के क्षेत्र […]

`लौह पुरूष` की गाथा

सुशीला रोहिला सोनीपत(हरियाणा) ************************************************************** लौह पुरुष की गाथा तुम्हें सुनाएं- गुजरात की पावन धरा पर जन्मा एक वीर महान, झावेर भाई पटेल का पूत माता लाड़बा देवी की सन्तान, अग्रज […]