varma

Showing 10 of 64 Results

सौभाग्य हमारा,कि ऐसा ‘पिता’ मिला

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** ‘पिता का प्रेम, पसीना और हम’ स्पर्धा विशेष….. सोचा के कुछ लिख दूं आपके लिए,पर मौका ही कब दिया कुछ कहने के लिए। मन में […]

माँ की ममता

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** मेरी फरमाइशों के पकवान बनाती थी हर रोज,तेरे माथे पर कभी रसोई की गर्मी की शिकन नहीं होती।खाया है बड़ी नामी-गिरामी जगहों पर भोज,पर उन […]

आदत है हमें

वाणी वर्मा कर्णमोरंग(बिराट नगर)****************************** आदत है हमें,कहकर भूल जाने कीवादों से मुकर जाने की,हर चीज़ में मिलावट करने कीझूठ को सच और,सच को झूठ दिखाने कीवफ़ा की कसम देकर बेवफाई […]

उधार

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** “ठक ठक”“हाँ कौन ?” ऑफिस के दरवाज़े पर दस्तक सुनकर गुंजन बोली।“हैलो मैम,मैं गौरव, कॉलेज का ही विद्यार्थी हूँ।”“तो ? आपको पता नहीं क्या माहौल […]

स्त्री हूँ मैं

वाणी वर्मा कर्णमोरंग(बिराट नगर)****************************** हाँ स्त्री हूँ मैं,जगत जननी शक्ति स्वरूपालज्जा रूप क्षमा रूप,जगदंबाअबला नहीं सबला हूँ मैं,हाँ स्त्री हूँ मैं…। पर हाय रे विडंबना,समर्पित फिर भीपल-पल त्रसित-ग्रसित,और तिरस्कृतहोती हूँ […]

जल जीवन है और जीवन जल

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** ज से जल जीवन स्पर्धा विशेष… ज-से जन्म लिया हमने जब,ईश्वर का आभार मनाया है।मानव जीवन लेकर हमने,परम सौभाग्य भी पाया है। ज-से जननी एकमात्र […]

किस रंग रंगूं

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** सोचा कि रंग दूं तुम्हें होली के रंग से,फिर सोचा कि रंगू तो रंगू किस रंग से। लाल रंग आया खयाल में,पर तेरे होंठों से […]

पहली मुलाकात

श्रीमती प्रिया वर्माबेंगलोर(कर्नाटक) ************************************** मित्र मैं कुछ समझ नहीं पाई,तूने यह क्या किया,पहली मुलाकात में ही तूने तो मेरा दिल ले लिया। जब से तुझे देखा है सनम,उस झील के […]

तुम्हारी आदत

मयंक वर्मा ‘निमिशाम्’ गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश) *************************************** काव्य संग्रह हम और तुम से तुम्हारी ऐसी आदत हो गई है,तुम्हारी आदत,मेरी आदत हो गई है।तुम्हारी आँखों से छलकते सपने,हर फरमाइश,मेरी चाहत हो गई […]

प्रेम में गुम रहो

डॉ.भारती वर्मा बौड़ाई, देहरादून (उत्तराखंड)************************************* काव्य संग्रह हम और तुम…. प्रेम मेंकम मिलो,दूरियों में प्रेम कोअधिक अनुभव करो।प्रेम मेंकम कहो,मौन में प्रेम अनुभव करो।प्रेम मेंप्रेम में गुम रहो,प्रेम कोस्वयं मत […]